Advertisement In Hindi - नमस्कार दोस्तों सबसे पहले तो मैं आप सभी का इस विषय पर रुचि होने के कारण मैं आपकी सराहना करता हूं। यह बहुत ही चर्चित विषय रहा है और इसका ज्ञान होने से तो हो सकता है कि आप भी धनवान बन जाएँ।

जी हां दोस्तों, मैं बात कर रहा हूं विज्ञापन की अर्थात Advertisement की। इसी बीच एक प्रश्न का उत्तर दें यदि आपने कुछ दिन पहले कुछ खरीदा था तो उसको लेने का ख्याल आपके दिमाग में कैसे आया ?

सोचिए ! सोचिए ! अब तक तो आपको याद आ ही गया होगा। आप उस वस्तु की ओर विज्ञापन के कारण आकर्षित हुए आपको शायद ज्ञान भी ना हो लेकिन आज तो विज्ञापन का प्रभाव लोगों पर दिखाई देता है परंतु जब यह विज्ञापन की शुरुआत हुई थी तो लोग तो इसकी बातों पर आँख बंद कर भरोसा करते थे।

 इतने वर्षों के बाद भी विज्ञापन का प्रभाव हमारे जीवन में बिल्कुल वैसे ही है जैसे पहले था। हम ना चाहते हुए भी विज्ञापन से प्रभावित होते हैं। ऐसा क्यों होता है कभी आपने सोचा है ? आश्चर्य होने की जरूरत नहीं है आज हम आपको विज्ञापन से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण बातें बतायेंगे जो आपको जाननी जरूरी है।

विज्ञापन की शुरुआत व विज्ञापन का इतिहास बहुत पुराना है। इसकी शुरुआत 1468 में हुई थी जो कि एक किताब द्वारा लोगों तक पहुंचाई गई।

आज इस पोस्ट में मैं बात करने वाला हूँ कि विज्ञापन क्या होता है ? ( What is Advertisement In Hindi ). विज्ञापन की परिभाषा , विज्ञापन के लाभ और विज्ञापन की हानि व साथ -साथ आपको बताऊंगा कि एक अच्छा विज्ञापन कैसे बनाते हैं ?

विज्ञापन क्या हैं ? What is advertisement in hindi ?

आप राह चलते समय , सब्जी खरीदते समय या मोबाइल में Youtube और Netflix देखते समय बैनर और टेक्स्ट में कुछ देखते है जो एक विज्ञापन होता हैं। अगर हम विज्ञापन की परिभाषा की बात करेंगे तो कुछ इस तरह इसका परिभाषा होगा।

यह आपको अख़बार में , टीवी पर,  सोशल मीडिया और इंटरनेट पर दिखाया जाता हैं।  

भारत में विज्ञापन की शुरुआत कब हुई ?

भारत में विज्ञापन की शुरुआत अंग्रेजों के राज में शुरू हुई। पहली Advertisement भारत में 1904 में  दिखाई दी। यह बात किसी से छुपी नहीं है कि भारत में देवी-देवताओं का महत्व कितना है। इसी का प्रयोग अंग्रेजों ने भी किया, उन्होंने शुरुआती सभी विज्ञापनों में देवी देवताओं के चित्र प्रयोग किया। इन विज्ञापनों में कितनी हुई बातों का असर भारतवासियों पर खूब हुआ और इसे अंग्रेजी हुकूमत में व्यापार की बढ़ोतरी हुई।

शुरूआती विज्ञापनों पर हिंदू देवी देवताओं की तस्वीरें दिखाई जाती थी। यह विज्ञापन दिखाने का उद्देश्य यह था कि भगवान भी चाहते है कि वह वस्तु आप ख़रीदे। यह थी विज्ञापन से जुड़ी कुछ बातें जिन्हें जानना बहुत ही आवश्यक था।

विज्ञापन के प्रकार [ Types Of Advertisement In Hindi ]

 विज्ञापन प्रदर्शित

इसमें डिजिटल और अखबार के विज्ञापन शामिल हैं। डिजिटल विज्ञापन अखबार के विज्ञापन का अद्यतन संस्करण हैं। यह एक ही अवधारणा है लेकिन 21 वीं सदी के रूप में है। इसका मतलब है कि उन साइटों पर विज्ञापन स्थान खरीदना जो आपके लक्ष्य जनसांख्यिकीय के लिए रुचि रखते हैं। आप टेक्स्ट विज्ञापन बना सकते हैं, जो अनिवार्य रूप से पारंपरिक प्रिंट मीडिया विज्ञापनों की तरह दिखते हैं, साइट के संपर्क के ऊपर Floating Banner और यहां तक कि साइट पृष्ठभूमि पर आपके उत्पाद या सेवा के साथ वॉलपेपर।

2सोशल मीडिया विज्ञापन

Pinterest, Instagram, Facebook और बहुत सारे सोशल मीडिया साइट्स अपेक्षाकृत सस्ते विज्ञापन प्रदान करते हैं। भुगतान किया गया सोशल मीडिया विज्ञापन एक प्रकार का विज्ञापन है जो आपके लक्षित दर्शकों तक पहुंचने पर ध्यान केंद्रित करता है कि आप इसे कितने में देखते हैं और इससे जुड़ते हैं, कितना समायोजित करते हैं।

Organic सोशल मीडिया विज्ञापन एक तरह का विज्ञापन है, जो बहुत सारे शब्द बनाता है। मान लें कि आप अपने व्यवसाय के Facebook पेज पर कुछ पोस्ट करते हैं, जो मुफ्त उत्पाद प्रदान करता है यदि अनुयायी लाइक क्लिक करते हैं और किसी मित्र को टैग करते हैं - तो यह उस प्रकार का विज्ञापन है जो पोस्ट करने के लिए स्वतंत्र है और लोगों को इस बात से अवगत कराता है कि आपको क्या ऑफर करना है।

3. समाचार पत्र और पत्रिकाएँ

इस प्रकार के विज्ञापन पारंपरिक हैं फिर भी कम प्रभावी नहीं हैं। स्थानीय, राज्यव्यापी और राष्ट्रीय प्रिंट मीडिया के बीच इस प्रकार के विज्ञापन को जोड़ना एक महान विपणन अभियान रणनीति है। बहुत से लोग अभी भी अपने सुबह के अखबार या पत्रिका की हार्ड कॉपी के साथ घर बसाने के लिए प्यार करते हैं। इसके अलावा, अधिकांश प्रिंट मीडिया में अब डिजिटल उपस्थिति है और इस प्रकार के विज्ञापनों को इसके आभासी संस्करण के साथ जोड़ सकते हैं।

4. आउटडोर विज्ञापन

अब जब होर्डिंग डिजिटल हो गया है तो यह एक प्रभावी कथन बनाने का एक बहुत बड़ा तरीका है। पारगमन विज्ञापन एक अन्य प्रकार का विज्ञापन है जो बाहरी छतरी के नीचे आता है - बस, टैक्सी, बाइक मैसेंजर सेवाओं और पेडीकैब पर अपने उत्पाद या सेवा की सुविधा दें। इस तरह से प्रचार करने से आपको उत्कृष्ट ब्रांड की पहचान मिलती है क्योंकि इस प्रकार के विज्ञापन हर रोज़ देखे जाते हैं और अपनी पेशकश को भूलना मुश्किल बना देते हैं।

5. रेडियो और पॉडकास्ट

मौखिक प्रचार एक प्रकार का विज्ञापन है जिसे अक्सर रेडियो या पॉडकास्ट शो के हिस्से के रूप में दोहराया जा सकता है। आपके पास एक पारंपरिक प्रकार का विज्ञापन चलाया जा सकता है, जिसे प्रायोजित करने का भी मौका है। अपने लक्षित श्रोताओं के पॉडकास्ट के प्रकारों को नीचे गिरा दें या जिस स्टेशन को वे पसंद करते हैं और याद रखें, उस तरह के विज्ञापन ग्राहक बनाने के लिए वे सबसे ज्यादा सुनते हैं।

6. डायरेक्ट मेल और पर्सनल सेल्स

डायरेक्ट मेल, या आपके लक्षित दर्शकों के लिए मेल द्वारा सम्मोहक बिक्री पत्र भेजने की कला, छोटे व्यवसायों के लिए निवेश पर एक स्वस्थ रिटर्न की पेशकश कर सकती है। शुरुआती बिंदु अपने लक्ष्य बाजार की पहचान करना है, फिर उन सभी संभावनाओं के लिए एक आकर्षक प्रस्ताव भेजें।

प्रतिक्रियाओं को मापने से आपको यह देखने में मदद मिलती है कि किस प्रकार के ग्राहक इस प्रारूप का जवाब दे रहे हैं, इसलिए आप अपने अगले मेल शॉट के साथ और भी अधिक सटीक लक्ष्यीकरण का उपयोग कर सकते हैं। एक समान नस में, प्रत्यक्ष या व्यक्तिगत बिक्री अभी भी विज्ञापन का एक बड़ा क्षेत्र है, खासकर छोटे व्यवसायों के लिए।

एक अच्छा विक्रेता किसी उत्पाद को खरीदने के लिए ग्राहक को मनाने के लिए अपने कौशल का उपयोग कर सकता है। यदि विक्रेता विशेष रूप से प्रभावी है, तो ग्राहक आपके उत्पाद के बारे में सिफारिशों और सिफ़ारिशों के माध्यम से प्रचार करना जारी रखेगा।

विज्ञापन दिखाए जाने का उद्देश्य ।

चलिए अब जानते हैं की विज्ञापन का उद्देश्य क्या होता है ? वैसे तो विज्ञापन दिखाए जाने के बहुत सारे उधेश्य होते है लेकिन पैसा कमाना व्यसाय का मुख्य उधेश्य होता है यह भी आपको याद रखना चाहिए।

Informative Advertising दिखाना

Informative advertising का बहुत ही ज्यादा महत्व होता है इसका मूल लक्ष्य ही होता है की की एक primary demand पैदा करना । जिसके की लोगो के दिमाग यह product खरीदने का विचार उठने लगें।

इसी लक्ष्य को support करने के लिए, informative advertising को दिखाया जाता है । information एक नए product के features के बारे में या service के विषय में जिससे की ये ग्राहकों के मन में decision-making process की शुरुवात कर सके.

उदाहरण के लिए, मान लीजिए किसी मोबाइल फ़ोन की कंपनी ने कोई मोबाइल बनाया तो उसे अपने ग्राहकों को यह सूचित करना होगा कि इस नए फ़ोन में क्या क्या नया चीज जोड़ा गया हैं।

Advertisements का इस्तमाल brand awareness और brand exposure को बढ़ाने के लिए होता है targeted market में, सही customers तब brand के विषय में जानकारी पहुँचाना ही इसमें पहला step होता है अपने business goals को पूर्ण करने का।

Persuasive Advertising का दिखाए जाना ।

Persuasive advertising ज्यादा relevant बनता है competitive stage में, इसमें company की objective होती है एक particular brand के लिए एक selective demand पैदा करना।

इसमें ग्राहकों को ये जताना होता है की इसकी products और services ज्यादा value प्रदान करते हैं इसकी प्रतिद्वंद्वी (Competitors ) products या services की तुलना में ।

उदाहरण के लिए, A अपने consumers को ये बताता है की उनकी cars ज्यादा आरामदायक होते हैं B के cars की तुलना में.

चूँकि persuasive advertising में comparative advertising का इस्तमाल होता है, जिसमें की explicit comparisons करना पड़ता है दो ये उससे ज्यादा brands के बीच में।

इसलिए कुछ देशों में comparative advertising को permit नहीं किया जाता है। इस प्रक्रिया में customers को pursuade करना एक particular task को करने के लिए जिससे की अपनी advetising की objective पूर्ण हो सके।

इस tasks में products और services जो की offer किया गया होता है उसे try करना भी पड़ता है, जिससे की एक brand image का form बन सके, वहीँ develop करना होता है।

Reminder Advertising का दिखाए जाना।

आखिर में reminder advertising ज्यादा relevant बनता है mature products के case में।

ऐसे stage में, consumers बिलकुल ही जानकार होता है product के features के विषय में। वहीँ वो इसके benefits से भी उत्साहित होते हैं,लेकिन इसके benefits को बार बार repeat करना होता है ग्राहकों को ये याद दिलाने के लिए की उन्हें ये product को खरीदना ही चाहिए। यही प्रोडक्ट बेटर है जिस से लोग इस प्रोडक्ट को खरीदते है और sale बढ़ता हैं।

उदाहरण के लिए, गर्मियों में Cold Drinks के ads आपको ज्यादा दिखाई पड़ते हैं वो भी बार बार प्रत्येक दिन में। ये काम बस Drinks के विषय में याद दिलाने के लिए किया जाता है।

 

विज्ञापन के लाभ । Advantage Of Advertisement In Hindi

चलिए अब हमलोग विज्ञापन दिखाए जाने के लाभ क्या होते है इसके ऊपर बात कर लेते हैं :- 

सेल्स को बढ़ाना | 

जब कोई कंपनी अपना विज्ञापन दिखती है तो उसकी पहुंच बहुत ज्यादतर लोगों तक चली जाती है जिस से विज्ञापन दिखने वाले कंपनी को काफी ज्यादा सेल में बढ़ोतरी देखने को मिलता हैं।  क्युकी विज्ञापन देखने से लोगो के मन में उस product को खरीदने की जिज्ञाशा उत्पन हो जाती है।  

Brand Building में मदद करना | 

जी हाँ , विज्ञापन कपनी के प्रोडक्ट को एक Brand बनाती हैं।  अगर आपने ध्यान दिया होगा तो आपको पता ही होगा की जो कंपनी विज्ञापन करती है उसे लोग एक विश्वशनीय Brand के रूप में देखते है उसके मुकाबले जो कम्पनियाँ विज्ञापन नहीं करती हैं।  

Customer  को information देना | 

जब कोई कंपनी किसी नए Product को लांच करती है तो उसका दायित्व होता है की अपने ग्राहकों को उस product को कैसे प्रयोग करना है।  इन सभी चीजों के बारें में बताना।  जिस से लोगो को उस नए मार्किट में आये Product का ज्ञान भी हो जाता हैं।  साथ - साथ कंपनी का मुख्या उद्देशय भी पूरा होता हैं।  

नए Customer को आकर्षित करना | 

विज्ञानं दिखाए जाने का मुख्या उद्देशय यह भी होता है की नए कस्टमर को आकर्षित किया जाये।  

विज्ञापन के हानि

चलिए अब हमलोग अब विज्ञापन की हानि के बारे में बात कर लेते हैं :-

कीमत में बढ़ोतरी | 

मान लीजिये आपका एक कंपनी है तो आप विज्ञापन पर जो भी खर्चा करेंगे वह अपने ग्राहक से जरूर वसूल लेंगे।  ठीक उसी तरह अन्य कम्पनिया भी करती है जिसके परिणाम सवरूप Product की कीमत में बढ़ोतरी देखने को मिलता हैं।  

विज्ञापन महँगी होना 

विज्ञापन दिखाए जाने का कॉस्ट बहुत ही ज्यादा होता है इसलिए इसे सिर्फ और सिर्फ बड़े कंपनी और व्यापारी ही दिखा सकते हैं।  छोटे व्यापारी इसके खर्चे को वहन नहीं कर सकते हैं।  यह भी विज्ञापन का एक दोष हैं।  

फालतू चीजों को भी विज्ञापन के जरिये बेचना | 

बहुत से ऐसी चीजे होती है जो घटिया किस्म की होती है ऐसे प्रोडक्ट को भी बेचने के लिए कंपनी विज्ञानं दिखाती है और अपने उद्देशय को पूरा करती हैं।  

Confusion पैदा करना | 

मार्किट में आपको तरह तरह के विज्ञानं दिखा के कंफ्यूज कर दिया जाता है जैसे कभी आप विज्ञापन देखेंगे की क्या आपके टूथ पेस्ट में नमक और कभी देखेंगे की आपके टूथ पेस्ट में नमक तो नहीं है ?.इस तरह की विज्ञापन दिखा के आपको कंफ्यूज किया जाता है।  

Conclusion 

मैंने आपको इस पोस्ट में विज्ञापन क्या है ? [ What is Advertisement In Hindi ? ] विज्ञापन के लाभ , विज्ञापन के हानि और विज्ञापन के कितने प्रकार होते है।  सभी चीजों पे बात - चित किया।  दोस्तों मैं अपने इस पोस्ट में आपको बहुत ही बहुमूल्य जानकारी प्रदान की।  अगर आपका अब भी कोई सवाल है तो उसे कँनेट बॉक्स में पूछिए।  साथ ही अगर आपको ब्लॉग्गिंग , SEO  से सम्बंधित कोई जनकारी चाहिए तो उसके लिए भी आप कमैंट्स करके पूछ सकते हैं।  

आप यह पोस्ट अपने दोस्तों के साथ फेसबुक , इंस्टाग्राम और ट्विटर पर शेयर कीजिए।  

धन्यबाद ! ❤