आज की Guide SSC Kya Hai ? या SSC Full Form In Hindi के बारे में होने वाली है

आजकल लगभग सभी सरकारी नौकरी पाना चाहते हैं। ज्यादातर युवा सरकारी नौकरियों की और आकर्षित हो रहे हैं जिसके कई कारण हैं। सरकारी नौकरी में जो इज्ज़त मिलती है वह भी युवाओं को आकर्षित करती है। इसके अलावा कई अन्य कारण भी हैं जो युवाओं का आकर्षण केंद्र हैं।

तो अब सरकारी नौकरी की बात हो ही रही है और SSC का नाम ना लिया जाए ऐसा कभी हो सकता है भला ? SSC भारत में सरकारी नौकरी के लिए युवाओं में काफी लोकप्रिय संस्था है। यह भारत में ही नहीं कई अन्य देशों में भी SSC की तरह आयोग बने हुए हैं। 

अगर आप SSC के बारे में नहीं जानते हैं कि आखिर SSC Kya Hai और SSC Full Form In Hindi क्या है ?

तो आज हम SSC के बारे में ही बात करने वाले हैं जिसमें हम SSC से संबंधित कई बिंदुओं पर चर्चा करेंगे।

SSC Full Form In Hindi 

अब हम जानने वाले हैं कि SSC का फुल फॉर्म क्या होता है ?

SSC का फुल फॉर्म होता है - Staff Selection Commission (कर्मचारी चयन आयोग)

S - Staff - कर्मचारी 

S - Selection - चयन 

C - Commision - आयोग 

तो इस प्रकार SSC अर्थात Staff Selection Commission का हिंदी में मतलब होता है - कर्मचारी चयन आयोग।

अब हम ने SSC की फुल फॉर्म जान ली है। अब हम बात करते हैं की आखिर ये SSC क्या है ?

SSC Kya Hai 

SSC यानी Staff Selection Commission (कर्मचारी चयन आयोग) एक संगठन या संस्था है जो भारत सरकार के अधीन काम करती है। यह भारत सरकार से विभिन्न मंत्रालयों और विभागों से जुड़ी B, C व D ग्रेड या Group के अंतर्गत आने वाले पदों पर कर्मचारियों की भर्ती करती है। इसमें कई तरह की परीक्षाएँ होती हैं। इसके द्वारा हर योग्यता की परीक्षाएँ करवाई जाती हैं। चाहे वे 10/12 वीं पास की भर्ती हो या Post Graduate की भर्ती हो।

SSC की स्थापना 4 नवम्बर 1975 में हुए थी। उस समय इसका नाम वर्तमान के नाम से अलग था। उस समय SSC का नाम Subordinate Services Commission (अधीनस्‍थ सेवा आयोग) था। बाद में 26 सितंबर 1977 में इसका नाम बदलकर Staff Selection Commision (कर्मचारी चयन आयोग) कर दिया गया।

इस आयोग को नीतियाँ बनानी होती हैं जिनमें परीक्षाओं व अन्य प्रक्रियाओं जैसे - परीक्षा आवेदन फॉर्म भरना आदि की योजना बनाना जैसे कार्य सम्मिलित होते हैं। ये इसलिए आवश्यक है ताकि परीक्षाओं और चयन करने की व्यवस्थाओं को आसानी से बिना बाधा सुचारु ढंग से चलाया जा सके।

इस आयोग में एक अध्यक्ष, एक सचिव और दो सदस्य होते हैं और आयोग की अध्यक्षता अध्यक्ष द्वारा की जाती है जिस प्रकार लोकसभा में अध्यक्ष होता है। SSC का Headquarter (मुख्यालय) नई दिल्ली में स्थित है। वर्तमान में इसके सात क्षेत्रीय कार्यालयों में प्रयागराज, कोलकाता, मुंबई, चेन्नई, गुवाहाटी, बैंगलोर और नई दिल्ली शामिल है। SSC के दो उप क्षेत्रीय कार्यालय भी हैं जिनमें रायपुर और चंडीगढ़ सम्मिलित हैं

SSC द्वारा आयोजित होने वाली परीक्षाएँ 

  • SSC CGL - SSC Combined Graduate Level Exam (संयुक्त स्नातक स्तरीय परीक्षा)
  • SSC CHSL - SSC Combined Higher Secondary Level Exam (संयुक्त उच्चतर माध्यमिक स्तर की परीक्षा)
  • Junior Engineer (कनिष्ठ अभियंता)
  • JHT - Junior Hindi Translator (कनिष्ठ हिंदी अनुवादक)
  • SSC Multitasking Staff (SSC बहु कार्यण कर्मचारी)
  • SI - Central Police Organization (केंद्रीय पुलिस संगठन)
  • Stenographer C & D (आशुलिपिक सी व डी)
  • IMD Scientific Assistant Exam
  • GD - SSC Constables in CAPFs, NIA & SSF
  • Sub Inspector In CPOs 
  • Section Officer 
  • FCI - Food Corporation of India 
  • LDC - Lower Division Grade Limited Departmental Competitive Examination 

SSC की तैयारी कैसे करें ?

अगर आप SSC की परीक्षा को उत्तीर्ण करना चाहते हैं तो आपको मन लगाकर और कड़ी मेहनत करनी होगी। हम आपको कुछ टिप्स दे रहे हैं जो आपको कड़ी मेहनत में जरुर सहयोग करेंगी -

  1. Syllabus के अनुसार ही अध्ययन :- SSC के अलग अलग परीक्षा के लिए अलग अलग पाठ्यक्रम निर्धारित होता है। तो आपको हमेशा अपने Syllabus के अनुसार ही अध्ययन करना चाहिए। ये सिर्फ SSC परीक्षा पर ही लागू नहीं होता है बल्कि सभी परीक्षाओं पर लागू होता है। अगर आप Syllabus से बाहर कुछ पढ़ रहे हैं तो वो आपको आपकी परीक्षा में लाभ नहीं पहुचायेगा। इसलिए हमेशा जो Syllabus निर्धारित हो, उसके अनुसार ही अध्ययन करें।
  2. सही अध्ययन सामग्री का चयन :- आप जब परीक्षा की तैयारी शुरू करें उससे पहले आप परीक्षा के अनुसार सही व सटीक अध्ययन सामग्री का चयन करें। उसी किताब को चुनें जो आपको परीक्षा उत्तीर्ण करवाने में सहायक हो। कोई भी कार्य करें तो उसे हमेशा सही तैयारी के साथ करें।
  3. Time-Table बनाएं और पालन करें :- अक्सर विद्यार्थियों को देखा गया है कि वे या तो टाइम टेबल बनाते नहीं है या टाइम टेबल बनाने के बाद भी उसका पालन नहीं करते हैं। तो आपको एक आपके लिए उपयुक्त टाइम टेबल बनाना है और उसका पूरी लग्न के साथ पालन करना है। कई बार असफल होने के पीछे ये भी एक कारण हो जाता है।
  4. किसी विषय को हल्के में न लें :- कई बार क्या होता है कि अरे यार ! ये हिंदी तो आसान है इसे क्या पढ़ें ? और इस तरह आप कई बार किसी विषय को आसान मानकर उसकी सही तैयारी नहीं करते हैं। आप अन्य विषय को समय दे देते हैं जो आपको कठिन लगते हैं। लेकिन हमेशा सभी विषयों को सही समय दें वरना आपकी एक लापरवाही आपकी असफलता का कारण बन सकती हैं।
  5. ज्ञान बांटने से बढ़ता है :- हाँ, ये कहावत सही है कि ज्ञान बाँटने से बढ़ता है। आपमें सीखने की रूचि तो है लेकिन अगर सीखाने की रूचि नहीं तो सीखने का पूरा लाभ आपको नहीं मिलेगा। अत: अपना ज्ञान दूसरों के साथ भी बांटे ताकि आपका भी ज्ञान भंडार और बढ़ता जायेगा। 
  6. Videos भी लाभदायक :- ये तो विज्ञान भी मानता है कि हमारा दिमाग चित्रों से समझाये गये किसी विषय को जल्दी समझ लेता है। अत: SSC की तैयारी करते वक़्त आप Youtube Videos से भी अध्ययन भी कर सकते हैं।
  7. Social Media से दूरी :- अगर आप कोई भी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो आपको Social Media से थोड़ी दूरी बनानी चाहिए क्योंकि Social Media पर हमारा कीमती समय नष्ट हो जाता है। अत: “Youtube Videos देखने गये और बीच में चला लिया Facebook या Whatsapp” ऐसा नहीं होना चाहिए। अत: Social Media से थोड़ी दूरियां बनाये रखें जब तक कि आप परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं।
  8. पिछली साल के Paper देखें :- जब आप SSC या कोई भी परीक्षा की तैयारी कर रहे हों तो आपको पिछली साल के Paper भी देखने चाहिये क्योंकि इनसे आपको अंदाज़ा लग जायेगा कि Paper कैसा आने वाला है और आप अधिक तैयारी कर पायेंगे।
  9. Notes भी तैयार करें :- जब आप SSC की परीक्षा की तैयारी कर रहे हों तो आपको साथ साथ में Notes भी बनाने चाहिए ताकि अगर आपको Revision का समय मिले तो आपको पूरी किताब को दोबारा न पढना पड़े। ये Notes आपके बाद SSC की तैयारी करने वाले किसी अन्य विद्यार्थी के काम भी आ सकते हैं। 
  10. स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें :- अक्सर विद्यार्थी क्या करते हैं कि वे परीक्षा की तैयारी के चक्कर में रात-रात भर जागकर पढाई करते हैं। लेकिन इस प्रकार अध्ययन करने का उनके स्वास्थ्य पर नकारात्मक पड़ता है। अत: तैयारी के साथ साथ अपने स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें क्योंकि -

स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मष्तिष्क का निवाश होता है।

Conclusion (निष्कर्ष)

तो आज हमने SSC के बारे में जाना कि SSC Kya Hai ? व SSC Full Form In Hindi क्या है ? मैं आशा करता हूँ कि आज की जानकारी आपको समझ आ गयी होगी और आपको पसंद भी आयी होगी। 

अगर आपको आज का ये लेख पसंद आया तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और अगर आपका कोई सवाल है तो कमेंट में जरुर पूछें। 

अगले लेख तक के लिए अलविदा ! मिलते हैं अगले उपयोगी लेख में !

आप ये भी पढ़ सकते हैं -