जब भी हम ऑनलाइन Shopping या Recharge कुछ भी अपने क्रेडिट और डेबिट कार्ड से करते हैं तो हमें CVV का नाम सुनकर एक सवाल ज़रूर आता होगा कि आखिर ये "CVV Kya Hai (What Is CVV In Hindi). या CVV Kya Hota Hai ?

हो सकता है कि आप में से कुछ लोगों को इसके बारे में पता होगा लेकिन मुझे लगता है कि बहुत से लोगों को इसके बारे में पता नहीं है कि CVV क्या होता है ? तो आज हम इसी टॉपिक पर बार करने वाले हैं कि CVV Kya Hota Hai ?

हमारे डेबिट या क्रेडिट कार्ड पर अंकित कई महत्वपूर्ण चीज़ों में CVV भी शामिल है। इसके अलावा कार्ड पर कई चीज़े अंकित होती हैं जैसे - 

  1. कार्ड नंबर, 
  2. वैधता समाप्ति दिनांक, 
  3. कार्ड धारक का नाम,
  4.  स्मार्ट चिप, 
  5. Magnetic Strip (चुम्बकीय पट्टी) 

लेकिन आज हम सुरक्षा की दृष्टि से महत्वपूर्ण CVV की बात करने वाले हैं तो चलिए फिर जान ही लेते हैं देरी किस बात की है ?

CVV Kya Hai (What Is CVV In Hindi)

CVV/CVV2 की फुल फॉर्म है - Card Verification Value. (कार्ड सत्यापन मूल्य)

CVV अर्थात कार्ड वेरिफिकेशन वैल्यू आपके डेबिट या क्रेडिट कार्ड के पीछे की तरफ अंकित 3 या 4 अंको का सिक्यूरिटी कोड होता है।

ये कार्ड का एक अभिन्न हिस्सा होने के साथ - साथ आपके Online Transcation आदि करते समय एक सिक्यूरिटी चेक होता है।

यह CVV कोड कार्ड धारक के बारे में सही जानकारी प्रदान करता है कि जिसने Transcation या पेमेंट आदि किया है वह उस कार्ड का असली धारक/मालिक ही कर रहा है और वह इसका सही उपयोग कर रहा है।

CVV कोड ऑनलाइन Transcation या पेमेंट करते वक़्त पूछा जाता है और अगर हम ये दर्ज नहीं करते हैं तो हमारा ट्रांजैक्शन या पेमेंट अधूरा रह जाता है व हम ट्रांजैक्शन पूर्ण नहीं कर पाते हैं

CVV Kya Hai

CVV का इतिहास 

CVV या CVC का आविष्कार UK में 1995 ई. में Equifax कर्मचारी Michael Stone (माइकल स्टोन) द्वारा किया गया था

Littlewoods Home Shopping Group (लिटिलवुड्स होम शॉपिंग समूह) व NatWest Bank द्वारा इसका परीक्षण करने के बाद UK Association For Payment Clearing Services (APACS) द्वारा इसे अपना लिया गया था

  1. MasterCard ने 1997 में CVC2 नंबर जारी करना शुरू किया था। 
  2. संयुक्त राज्य अमेरिका में Visa ने 2001 तक इन्हें जारी कर दिया था। 
  3. American Express ने CSC का उपयोग 1999 में शुरू कर दिया था

2016 में, Motioncode नामक एक नई ई-कॉमर्स तकनीक पेश की गई थी, जो CVV कोड को स्वचालित (Automatically) रूप से एक घंटे में नए सिरे से ताज़ा करने के लिए डिज़ाइन की गई थी।

हालाँकि यह कोड शुरुआत में 11 अंकों के बनाये गये थे लेकिन बाद में इन्हें 3 या 4  अंको का कर दिया गया। 

CVV कोड कहाँ होता है ?

CVV कोड ज्यादातर कार्ड में पीछे की तरफ 3 अंकों का होता है। लेकिन कई बार ये सामने की तरफ और 4 अंकों का भी मिल जाता है।

कुछ ख़ास कार्ड पर CVV कोड कहाँ होता है ? उसकी जानकारी इस प्रकार है -

  1. Diners Club, Discover, JCB, MasterCard और Visa क्रेडिट और डेबिट कार्ड में ये CVV कोड 3 अंकों का होता है कोड कार्ड के पीछे सिग्नेचर पैनल पर मुद्रित संख्याओं का अंतिम समूह होता है
  2. American Express कार्ड में CVV कोड सामने की तरफ कार्ड नंबर के पास 4 अंकों का होता है
  3. उत्तरी अमेरिकन MasterCard और Visa कार्ड में एक अलग पैनल में (Signature Strip) हस्ताक्षर पट्टी के दायीं ओर यह CVV कोड होता है। यह कार्ड पर हस्ताक्षर करके संख्याओं की ओवरराइटिंग को रोकने के लिए किया जाता है

 

CVV Kya Hai

CVV के अन्य नाम या प्रकार 

इन सब नामों को देखकर आप चोंकियेगा मत क्योंकि CVV को इतने नामों से जाना जाता है या CVV की तरह इतने कोड होते हैं

जो भी कार्ड बनाने वाली कंपनी होती हैं वो अपने कार्ड की अलग पहचान रखने के लिए अपने कार्ड के लिए अलग अलग कोड इस्तेमाल करती है

लेकिन इन सब का काम एक समान ही होता है जो कि है कार्ड को सुरक्षा प्रदान करना।

CVV या CVC के प्रकार 

  • CVC1/CVV1 इसके द्वारा ये सुनिश्चित किया जाता है कि कार्ड का इस्तेमाल स्वयं कार्ड धारक ही कर रहा है। ये “Card Present Transactions” के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
  • CVC2/CVV2 ↪  इसका इस्तेमाल ऑनलाइन व्यापारी द्वारा अक्सर मेल, फैक्स, टेलीफोन या इंटरनेट द्वारा होने वाले “Card Not Present Transactions” लेनदेन के लिए इस्तेमाल किया जाता है।पश्चिमी यूरोप के कुछ देशों में, कार्ड जारी करने वालों को कोड प्राप्त करने के लिए एक व्यापारी की आवश्यकता होती है जब कार्डधारक व्यक्ति में मौजूद नहीं होता है।

 

प्रमुख सुरक्षा कोड -

  1. CVC/CVC2 ↪ Card Verification Code. (कार्ड सत्यापन कोड) :- इस कोड का इस्तेमाल MasterCard द्वारा किया जाता है 
  2. CSC ↪ Card Security Code. (कार्ड सुरक्षा कोड) :- यह कोड 3 अंकों का होता है और इसका इस्तेमाल केवल American Express द्वारा किया जाता है  
  3. CVD ↪ Card Verification Data (कार्ड सत्यापन डाटा) :- यह कोड Discover द्वारा इस्तेमाल किया जाता है 
  4. CID ↪ Card Identification Data/Number (कार्ड पहचान डाटा) :- यह 4 अंकों का कोड होता है तथा यह Discover व American Express के द्वारा इस्तेमाल किया जाता है
  5. CVN/CVN 2  ↪ Card Verification Number (कार्ड सत्यापन नंबर) :- इस कोड का इस्तेमाल China UnionPay द्वारा किया जाता है  
  6. CVV2 ↪ Card Verification Value 2 (कार्ड सत्यापन नंबर 2) :- इस कोड का इस्तेमाल Visa द्वारा किया जाता है
  7. CVE ↪ Elo Verification Code (एलो सत्यापन कोड) :- इस कोड का इस्तेमाल ब्राज़ील में Elo द्वारा किया जाता है
  8. CVVC ↪ Card Verification Value Code (कार्ड सत्यापन मूल्य कोड) 
  9. CCV ↪ Card Code Verification (कार्ड कोड सत्यापन)
  10. CAV ↪ Card Authentication Value (कार्ड प्रमाणीकरण मूल्य)

    CVV की अहमियत क्या है ?

हम सभी अपने डेबिट और क्रेडिट कार्ड से लेन-देन तो करते ही हैं तो CVV हमारे इसी उपयोग को सुरक्षित बनाने के लिए विकसित किया गया था

CVV से आपके डेबिट और क्रेडिट कार्ड को निम्न तरीकों से सुरक्षित बनाने का प्रयास किया गया है -

  • अगर आप ऑनलाइन शौपिंग कर रहे हैं तो CVV आपके लिए बहुत ज़रूरी है क्योंकि इससे ये निश्चित कर लिया जाता है कि जो ये पेमेंट कर रहा है उसके पास Physical (भौतिक) डेबिट या क्रेडिट कार्ड है। इस नज़रिए से CVV आवश्यक है।

  • आपको क्रेडिट या डेबिट कार्ड प्रदान करने वाली कंपनी अपने डेटाबेस में आपके CVV को स्टोर नहीं रखती हैं तो अगर आपको क्रेडिट या डेबिट कार्ड प्रदान करने वाली कंपनी पर कोई अटैक होता है तो आपके कार्ड की जानकारी लीक होने के बावजूद भी CVV लीक नहीं होने की वजह से कोई भी Transcation कम्पलीट नहीं कर पायेगा क्योंकि उसके पास CVV नहीं है।   

  • Payment Card Industry Data Security Standard (PCI DSS) के अनुसार जिस Site या Portal पर आप अपने डेबिट या क्रेडिट कार्ड से पेमेंट करते हैं उसे आपके कार्ड की महत्वपूर्ण जानकारी जैसे कार्ड नंबर और CVV आदि सेव करके रखने की अनुमति नहीं है। 

  • CVV आपके कार्ड में पीछे की तरफ अंकित होता है ताकि जब कभी आप किसी सार्वजनिक स्थान पर अपने कार्ड का इस्तेमाल करें तो आप अपने CVV को कैमरा और लोगों आदि की नज़रों से बचाकर धोखाधड़ी से बच सकें।

  • अगर कोई व्यक्ति आपके क्रेडिट या डेबिट कार्ड से आपसे पूछे बिना कोई Transcation करना चाहे तो वह बिना CVV के कोई भी Transcation नहीं कर सकता है। इस प्रकार CVV का महत्व अद्वितीय है।

CVV Kya Hai

CVV की कमियां क्या हैं ?

CVV की कमी में इसे गिना जा सकता है कि यदि आपका कार्ड चोरी हो जाता है तो आपके कार्ड के साथ साथ आपके CVV नंबर भी उस इंसान को मिल जाते हैं जिसने आपका क्रेडिट या डेबिट कार्ड चुराया या छीना हैतो आपका अकाउंट और उसमें जो आपका पैसा है वो भी खतरे में पड़ जाता है।

इसकी एक कमी ये भी है कि अगर आपके क्रेडिट या डेबिट कार्ड को कोई Duplicate भी बना लेता है जिसमें चुम्बकीय पट्टी (Magnetic Strip) भी हो तो Fraud करने वाला व्यक्ति आपके कार्ड के CVV कोड को भी Access कर सकता है

एक ये कि CVV फ़िशिंग घोटालों (Phishing Scams) से रक्षा नहीं कर सकता, जहाँ कार्ड धारक को जालसाज़ी और धोखाधड़ी करने वाली वेबसाइट के माध्यम से कार्ड की अन्य जानकारी के साथ साथ CVV की जानकारी भी दर्ज करने के लिए बरगलाया जाता है

कई कार्ड जारी करने वाली कंपनी CVV का इस्तेमाल नहीं करते हैं तो इसके बिना Transcation सुरक्षित नहीं होगा और धोकाधड़ी बढ़ेगी।

किसी व्यापारी को लेन-देन करने के लिए CVV कोड की आवश्यकता होना अनिवार्य नहीं है इसलिए अभी भी यदि किसी को कार्ड नंबर पता है तो धोखाधड़ी हो सकती है

Fraudester अर्थात धोखाधड़ी करने वाले व्यक्ति के लिए एक अटैक के द्वारा CVV कोड का अंदाज़ा लगाना संभव है। इस कारण हमारे साथ धोखा हो सकता है।

 अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ’s) 

CVV Kya Hai ? लेख से सम्बंधित आपके द्वारा पूछे जा सकने वाले कुछ आम प्रश्न -

1.क्या कोई व्यक्ति बिना हमारे CVV जाने हमारे क्रेडिट या डेबिट कार्ड का इस्तेमाल कर सकता है ?                    उत्तर:- नहीं। क्योंकि CVV के बिना हमारे क्रेडिट या डेबिट कार्ड से कोई भी Transcation कम्पलीट नहीं किया जा सकता है।

2.किस डेबिट या क्रेडिट कार्ड में CVV कोड नहीं होता है ?                                                                                उत्तर:- जिन कार्ड में कार्ड संख्या 19 अंकों की होती है उनमें CVV कोड नहीं होता है।

3.क्या हमारा एटीएम पिन और CVV एक ही होते हैं ?                                                                                        उत्तर:- नहीं। आपके एटीएम पिन और CVV एक समान नहीं होते हैं बल्कि दोनों अलग अलग होते हैं।एटीएम पिन सिर्फ एटीएम मशीन में क्रेडिट या डेबिट कार्ड अकाउंट को Access करने के लिए होता है।

4.क्या हमें अपने कार्ड का CVV किसी को बताना चाहिये ?                                                                                उत्तर:- नहीं। क्योंकि यह सुरक्षा की दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण होता है। हालांकि आप इसे अपने किसी विश्वसनीय व परिचित को बता सकते हैं जो इसका दुरुपयोग न करे।

निष्कर्ष (Conclusion)

आज हमने CVV के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त की है। जिसमें हमने निम्न बिन्दुओं पर बात की है -

  • CVV क्या है (What Is CVV In Hindi)
  • CVV का इतिहास 
  • CVV कोड कहाँ होता है ?
  • CVV के अन्य नाम व प्रकार
  • CVV की अहमियत क्या है ?
  • CVV की कमियां क्या हैं ?
  • अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ’s)

तो मैं यही आशा करता हूँ कि आप सभी को CVV के बारे में सही तरीके से सारी जानकारी मिल गयी होगी कि आखिर CVV Kya Hai (What Is CVV In Hindi).

मैंने अपनी तरफ से लगभग जानकारी आपको प्रदान कर दी है। अगर आपका कोई सवाल या शंका हो तो आप बेझिझक कमेंट में पूछ सकते हैं, मैं उसका हल देने की पूरी कोशिश करूंगा।

अगर आपको आज का लेख CVV Kya Hai (What Is CVV In Hindi) पसंद आया तो अपने करीबी लोगों को भी ये जानकरी दीजिये ताकि वो भी इसके बारे में जान सकें। कमेंट में जरुर बतायेगा कि आज का ये लेख आपको कैसा लगा ?

तो चलिए, मिलते हैं अगले Useful लेख में।

आपका Murari Poonia 

आप ये भी पढ़ सकते हैं -